Tagged: अकेलापन

screenshot_2016-11-23-21-45-08_1479918860966 0

ज़ाम-ए-मुहब्बत (jaam-e-muhbbat)

Lyrics : – Ratna कमबख्त मुहब्बत ने मारा है ऐसे, कोई काम का अब रहा ही न जैसे, जिगर में है टीस जिगर टूटने की, ये पलकों से आँसू सुखाऊँ मैं कैसे ?  ...

screenshot_2016-11-01-12-59-22_1477985386327 0

koi toh udas hai

ग़ज़ल –   कोई तो उदास है…… Visit : -https://youtu.be/zeyRwA0hJJs

screenshot_2016-10-17-10-37-58_1476697800190 0

piya tum kahan the (पिया तुम कहाँ थे)

गीतकार: – रत्ना पिया तुम कहाँ थे जब मैंने पुकारा, थी खोई डगरिया न कोई सहारा । नज़र कुछ न आया गिरी लड़खराकर, लगा जैसे अब न मिलेगा किनारा।।          ...