Tagged: Udasi Ghazal

Is Jahan me 0

Is Jahan Me Ghazal (इस जहाँ में)

Lyrics: Ratna आज हूँ मैं खड़ी इस कदर इस जहाँ में, न साथी न कोई हमसफ़र है हमारा । सपने लिए चल पड़ी थी हज़ारों, नहीं था ख़बर क्या होगा मेरा आगे । बहुत राह देखी...